Wednesday , September 28 2022
पंजाब सरकार ने तत्काल प्रभाव से 424 वीआईपी लोगों की सुरक्षा ली वापस
पंजाब सरकार ने तत्काल प्रभाव से 424 वीआईपी लोगों की सुरक्षा ली वापस

पंजाब सरकार ने तत्काल प्रभाव से 424 वीआईपी लोगों की सुरक्षा ली वापस

चंडीगढ़। पंजाब सरकार ने तत्काल प्रभाव से 424 वीआईपी लोगों की सुरक्षा वापस लेने की घोषणा की है। इन लोगों में सेवानिवृत्त पुलिस अधिकारी, धर्म गुरु और राजनेता शामिल हैं। इन वीआईपी लोगों की सुरक्षा से हटाए गए पुलिसकर्मियों को शनिवार को जालंधर छावनी में राज्य सशस्त्र पुलिस के विशेष पुलिस महानिदेशक को रिपोर्ट करने का निर्देश दिया गया है। पंजाब में 424 लोगों की सुरक्षा तत्काल प्रभाव से हटा ली गई है और संबंधित पुलिसकर्मियों को आज जालंधर कैंट में विशेष पुलिस महानिदेशक राज्य सशस्त्र पुलिस, जेआरसी को रिपोर्ट करने का निर्देश दिया गया है। जिन लोगों की सुरक्षा हटाई गई है, उनमें रिटायर्ड पुलिस अधिकारी, धर्मगुरु और राजनेता शामिल हैं।
पंजाब की भगवंत मान सरकार (Bhagwant Mann Sarkar) ने 424 वीआईपी लोगों की सुरक्षा ( Punjab VIP security) वापस ले ली है, जिनकी सुरक्षा वापस ली गई, उनमें कई सेवानिवृत्त अधिकारी और पूर्व विधायक भी शामिल हैं।
इन खास लोगों की सिक्योरिटी वापस लेने से पहले पंजाब सरकार ने एक रिव्यू बैठक की थी जिसमें इस बात पर विचार विमर्श किया गया था कि क्या 424 लोगों को सुरक्षा की जरूरत है, इस समीक्षा के बाद सरकार ने सुरक्षा में कटौती के आदेश जारी कर दिए। जिन माननीयों की सिक्योरिटी हटाई गई है उनमें कई सेवानिवृत्त अधिकारी और पूर्व विधायक भी शामिल हैं जिन लोगों की सुरक्षा वापस ली गई है, उनमें अकाल तख्त के जत्थेदार ज्ञानी हरप्रीत सिंह, शिरोमणि अकाली दल के सीनियर लीडर चरण जीत सिंह ढिल्लों और गायक सिद्धू मूसेवाला भी शामिल बताए जा रहे हैं। जिन सुरक्षा कर्मचारियों को सुरक्षा से हटा दिया गया है, उन्हें आज अपनी बटालियनों में जाकर रिपोर्ट करना होगा, इससे पहले अप्रैल में भी पंजाब सरकार ने पूर्व मंत्रियों और नेताओं सहित 184 लोगों की सुरक्षा वापस लेने का आदेश दिया था। गौरतलब है कि राज्य के मनोनीत मुख्यमंत्री भगवंत मान ने वीआईपी संस्कृति के खिलाफ एक स्पष्ट संदेश देते हुए अपने शपथ ग्रहण से पहले राज्य कांग्रेस प्रमुख नवजोत सिंह सिद्धू की पत्नी सहित 122 पूर्व विधायकों, मंत्री और वीआईपी की सुरक्षा वापस ले ली थी। पूर्व मंत्रियों में कांग्रेस के मनप्रीत सिंह बादल और परगट सिंह शामिल थे। हालांकि, सूची में पूर्व मुख्यमंत्रियों- कैप्टन अमरिंदर सिंह और प्रकाश सिंह बादल और शिरोमणि अकाली दल के प्रमुख सुखबीर बादल और राज्य कांग्रेस प्रमुख सिद्धू के नाम नहीं हैं मगर सिद्धू की पत्नी नवजोत कौर, जो पूर्व विधायक हैं, उन लोगों में शामिल थे, जिनकी सुरक्षा हटा ली गई है।