Tuesday , September 27 2022

#Ram Mandir शिलान्यास होते ही इन नेताओं ने उगला जहर

  • ट्रेंडिंग में श्रीराम: सोशल मीडिया पर भी जपा जा रहा नाम, दिग्गजों ने दी ऐसी प्रतिक्रिया
  • अयोध्या राम मंदिर पर सियासत
  • आज का दिन भारत के लिए एक ऐतिहासिक व गौरवपूर्ण दिन है
  • अखिलेश यादव बोले- आशा है भावी पीढ़ियां भगवान राम के दिखाए रास्ते का पालन करेंगी

लखनऊ। जहां एक तरफ राम मंदिर भूमि पूजन हुआ वही दुसरी ओर अयोध्या राम मंदिर पर सियासत शुरू हो गई है। आज  बरसों का इंतजार अब खत्म हो चुका है। अयोध्या में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राम मंदिर की आधारशिला रख दी है। भूमि पूजन की सभी प्रक्रिया करने के बाद प्रधानमंत्री ने शुभ मुहूर्त के वक्त शिला रखी। राम मंदिर भूमि पूजन समारोह में शामिल होने के लिए उत्तर प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल, आरएसएस चीफ मोहन भागवत, योग गुरु बाबा रामदेव और पूर्व केंद्रीय मंत्री उमा भारती समेत देश के विभिन्न हिस्सों से संत धर्माचार्य और अन्य अतिथि कार्यक्रम स्थल पहुंचे।

वही राम मंदिर भूमि पूजन खतम होते ही मंदिर पर सियासत शुरू हो गई है । लोगों की अलग-अलग प्रतिक्रिया आ रही है। इस मौके पर कांग्रेस नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री कपिल सिब्बल ने ट्वीट किया है। कहा कि, ‘आस्था का मामला: कुछ पलों की किस्मत इतिहास के बीज के रूप में होती है, यही हमारे राष्ट्र के भविष्य की दिशा तय करती है।

विनय कटियार बोले– किसी भी कीमत पर आडवाणी और जोशी को राम मंदिर भूमि पूजन में अयोध्या लाना चाहिए था।बीजेपी के पूर्व सांसद और बजरंग दल नेता विनय कटियार ने कहा है कि अयोध्या में राम मंदिर भूमि पूजन कार्यक्रम में शामिल होने के लिए बीजेपी के मार्गदर्शक नेता लालकृष्ण आडवाणी और मुरली मनोहर जोशी को खास तौर पर मनाना चाहिए था क्योंकि वो राम मंदिर आंदोलन का सबसे प्रमुख चेहरा रहे हैं।

‘ वहीं कांग्रेस नेता और मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने कहा है, ‘आज अयोध्या जी में भगवान रामलला के मंदिर का ‘शिलान्यास’ वेद द्वारा स्थापित ज्योतिष् शास्त्र की स्थापित मान्यताओं के विपरीत हो रहा है, हे प्रभु हमें क्षमा करना। यह निर्माण निर्विघ्न रूप से पूरा हो यही हमारी आप से प्रार्थना है। जय सिया राम’ #अयोध्या में राम मंदिर के भूमि पूजन से ठीक पहले ओवैसी ने ट्वीट कर कहा है कि बाबरी मस्जिद थी, है और रहेगी।

बसपा अध्यक्ष मायावती ने अयोध्या में राम मंदिर निर्माण का श्रेय उच्चतम न्यायालय को देते हुए बुधवार को कहा कि अयोध्या विवाद में अदालत के फैसले को अब सभी लोगों को स्वीकार कर लेना चाहिये। मायावती ने ट्वीट कर कहा ”जैसा कि सर्वविदित है कि अयोध्या विभिन्न धर्मों की पवित्र नगरी व स्थली है, लेकिन दुःख की बात यह है कि यह स्थल राम मंदिर व बाबरी-मस्जिद जमीन विवाद को लेकर काफी वर्षों तक विवादों में भी रहा है।”

अखिलेश यादव ने कि मौजूदा और भावी पीढ़ियां भी मर्यादा पुरुषोत्तम के दिखाए मार्ग के अनुरूप सच्चे मन से सबकी भलाई और शांति के लिए मर्यादा का पालन करेंगी। अखिलेश ने एक ट्वीट में कहा, ‘आशा है वर्तमान और भविष्य की पीढ़ियां भी मर्यादा पुरुषोत्तम के दिखाए मार्ग के अनुरूप सच्चे मन से सबकी भलाई व शांति के लिए मर्यादा का पालन करेंगी।’

राहुल गाधीं के ट्वीट कर कहा कि राम प्रेम हैं-वे कभी घृणा में प्रकट नहीं हो सकते।  प्रियंका गांधी ने किया ट्वीट कहा कि इससे पहले प्रियंका गांधी वाड्रा ने भी भूमि पूजन के लिए शुभकामनाएं दीं थी और कहा था कि राम सबमें हैं। गृह मंत्री अमित शाह ने टीट कर कहा कि अयोध्या में राम मंदिर निर्माण सदियों से दुनिया भर के हिंदुओं की आस्था का प्रतीक रहा है। आज प्रधानमंत्री और श्री राम#

 

 

 

 

 

Leave a Reply