मानसिक रोगियों में बढ़ सकता है कोरोना संक्रमण का ख़तरा

0 0

लाइफ़स्टाइल। कोरोनावायरस संक्रमण पिछले एक साल से लोगो के जहन में डर बनाये हुआ है। इस वायरस का सबसे ज्यादा खतरा उन लोगों को है जो पहले से ही किसी गंभीर बीमारी के शिकार है। एक रिपोर्ट के मुताबिक गंभीर मानसिक बीमारियों जैसे सिज़ोफ्रेनिया और अवसादग्रस्त लोगों में नए कोरोनावायरस और COVID -19 से मरने का अधिक जोखिम है। इस वायरस को फैलने से रोकने के लिए देश और दुनिया में वैक्सीन का निर्माण हो चुका है, लेकिन तब भी देश और दुनिया में इन मरीजों पर वैक्सीन के इस्तेमाल पर अभी तक जोर नहीं दिया गया है। ग्लोबल एलायंस ऑफ मेंटल इलनेस एडवोकेसी नेटवर्क्स,यूरोप के अध्यक्ष हिल्का क्रैककेन ने एक समाचार विज्ञप्ति में कहा कि समाज को जोखिम वाले समूहों को वैक्सीन के लिए प्राथमिकता देने की जरूरत है।

हिल्के ने बताया कि वैज्ञानिक प्रमाणों से यह जाहिर है कि लॉकडाउन में दिमागी बीमार लोगों को सबसे ज्यादा परेशानियों का सामना करना पड़ा है, लेकिन इस बात की ओर बहुत कम देश ही ध्यान देते हैं। समाज में इन लोगों के प्रति रवैये में बदलाव की जरूरत है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.