Saturday , May 21 2022
पूर्व कैबिनेट मंत्री पारसनाथ को प्रोस्टेट कैंसर की समस्या थी। इस काऱण से उनके दाहिने पैर में सूजन के साथ उन्हें मूत्रमार्ग में भी समस्या थी

समाजवादी पार्टी के दिग्गज नेता का निधन

जौनपुर। समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) के दिग्गज नेता, पूर्व कैबिनेट मंत्री और जौनपुर (Jaunpur) के मल्हनी सीट से विधायक पारसनाथ यादव (Parasnath Yadav) का शुक्रवार को निधन हो गया। उनके निधन की जानकारी सपा के बड़े नेता रहे शिवपाल यादव ने दी। शिवपाल ने अपने ट्विटर हैंडल में इस बात की जानकारी दी। जौनपुर शहर स्थित आवास पर उन्होंने पौने 1 बजे अंतिम सांस ली। 71 वर्षीया पारसनाथ यादव कैंसर समेत कई अन्य बीमारियों से पीड़ित थे। मौजूदा समय में वे मल्हनी विधानसभा से विधायक थे। उनके निधन के बाद सपा खेमे के साथ जिले में शोक की लहर है।

शिवपाल ने किया ट्वीट :

शिवपाल ने ट्वीट करते हुए कहा कि, वरिष्ठ समाजवादी नेता, पूर्व मंत्री व विधायक पारस नाथ यादव जी के निधन की खबर से स्तब्ध और दुःखी हूं। यह समाजवादी आंदोलन और मेरी व्यक्तिगत क्षति है। ईश्वर दिवंगत की आत्मा को शांति प्रदान करें । मैं शोक संतप्त परिजनों के प्रति अपनी संवेदना प्रकट करता हूं।

बता दे, पूर्व कैबिनेट मंत्री पारसनाथ को प्रोस्टेट कैंसर की समस्या थी। इस काऱण से उनके दाहिने पैर में सूजन के साथ उन्हें मूत्रमार्ग में भी समस्या थी। इसी बीमारी के चलते वह मुंबई के लिए रवाना हो गए हैं। जहां उनका इलाज मुंबई के कोकिलाबेन हास्पिटल हो रहा था।

दो बार सांसद और सात बार विधायक रहे :

पारसनाथ यादव सपा के दिग्गज नेताओं में से एक थे, वे 3 बार मंत्री, दो बार सांसद और सात बार विधायक रहे है। उनके तीन पुत्र हैं। पारसनाथ पहली बार 1972 में बरसठी ब्लाक के गहरपुर ग्राम सभा से ग्राम प्रधान चुने गए थे। सन् 1977 में पहली बार जिला पंचायत सदस्य पद के लिए चुने गए। सन् 1984 में पहली बार बरसठी विधानसभा से विधायक हुए। राजनीति में अपना झंडा गाड़ने के लिए पारसनाथ यादव ने बरसठी ब्लाक से शुरुआत की थी। जौनपुर सदर लोकसभा सीट से 2 बार समाजवादी पार्टी के सांसद रहे। उसके बाद 1998 में पहली बार सांसद बने। 1999 में उपचुनाव हुए जिसमे वे स्वामी चिन्मयानंद से हार गए। 2004 में तत्कालीन गृह राज्य मंत्री रहे स्वामी चिन्मयानंद को हरा कर 1999 का बदला ले लिया।

Leave a Reply