Saturday , August 13 2022

2014 से मोदी जी सिर्फ कह रहे हैं, सुन नहीं रहे : Kapil Sibal

नई दिल्ली । कांग्रेस पार्टी के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल ने किसान आंदोलन को लेकर पीएम नरेंद्र मोदी की आलोचना की है’। उन्होंने कहा कि कैसे मोदी सरकार आने से पहले, केंद्र सरकार ‘आंदोलनकारी किसानों की बातें वास्तव में सुना करती थी लेकिन अब ऐसा नहीं है ‘।

उन्होंने ट्वीट करते हुए लिखा कि- “आंदोलनकारी किसान पर प्रधानमंत्री कहते थे, ‘कुछ कहिए कुछ सुनिए’ और 2014 से मोदी जी कह रहे हैं- ‘आपने सब कुछ कहा और कभी भी ना सुनना’।”कृषि बिल वापस नहीं लिया तो आंदोलन चलता रहेगा’। आप को बता दें कि किसान पिछले 16 दिनों से दिल्ली सीमा पर केंद्र के कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं। केंद्र सरकार ने कहा कि वो संशोधन करने को तैयार है, लेकिन किसानों की मांग है कि तीनों बिल वापस लिए जाए।

 

भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत ने कहा कि यदि सरकार किसान नेताओं से बातचीत करना चाहती है तो उसे पिछली बार की तरह औपचारिक रूप से संदेश देना चाहिए। उन्होंने इस बात पर बल दिया कि नये कृषि कानूनों के निरसन से कुछ भी कम स्वीकार्य नहीं होगा।सरकार ने गुरुवार को किसान संगठनों की परेशानी देखते हुए अधिनियम में संशोधन करने के उसके प्रस्तावों पर गौर करने का आह्वान किया था और कहा था कि जब भी किसान संगठन चाहें, वह उनके साथ अपनी इस पेशकश पर चर्चा के लिए तैयार है।

टिकैत ने से कहा, ‘‘ उसे (सरकार को) पहले हमें यह बताना चाहिए कि वह कब और कहां हमारे साथ बैठक करना चाहती है जैसा कि उसने पिछली वार्ताओं के लिए किया। यदि वह हमें वार्ता का निमंत्रण देती है तो हम अपनी समन्वय समिति में उसपर चर्चा करेंगे और फिर निर्णय लेंगे।’’भाकियू नेता ने कहा कि ‘जबतक सरकार तीनों कानूनों को निरस्त नहीं करती है तबतक घर लौटने का सवाल ही नहीं है।’ जब उनसे पूछा गया कि क्या सरकार ने आगे की चर्चा के लिए न्यौता भेजा है तो उन्होने कहा कि ‘किसान संगठनों को ऐसा कुछ नहीं मिला है।’

 

 

Leave a Reply