Friday , May 27 2022

केसी त्यागी के बयान पर तेजस्वी का पलटवार, ट्वीट कर मुख्यमंत्री से किए कई सवाल

पटना : वैश्विक महामारी कोरोना वायरस की चपेट में आने से आज पूरा देश जूझ रहा है. हर तारीख के साथ संक्रमण के मामले भी बढ़ते जा रहें हैं. वहीँ देश की स्तिथि को देखते हुए विपक्षी दल इस साल चुनाव न करने की मांग कर रहें हैं.

अगर बात करे बिहार की तो, हाल ही में सत्ताधारी जेडीयू के प्रधान महासचिव केसी त्यागी का एक बयान सामने आया था. जिसमें वे बिहार में तय समय पर ही विधानसभा के चुनाव कराने की मांग कर रहें थे. उन्होंने विपक्षियों द्वारा चुनाव टालने की मांग को ख़ारिज करते हुए कहा था कि ‘अगर कोरोना संक्रमण के दौरान अमेरिका में चुनाव कराए जा सकते हैं तो फिर बिहार में क्यों नहीं?’

तेजस्वी ने सीएम से पूछें सवाल

वहीँ, बिहार में महामारी के लगातार बढ़ते मामलों को लेकर तेजस्वी यादव् ने नितीश सरकार को एक बार फिर से कटघरें में खड़ा कर दिया है. इस दौरान उन्होंने केसी यादव से एक नहीं बल्कि कई सवाल पूछे. तेजस्वी यादव ने कहा कि बिहार में कोरोना वायरस की टेस्टिंग देश में सबसे कम है… यहां स्थिति बेहद गंभीर है… राज्य सरकार COVID-19 नंबरों में भी हेरफेर कर रही है. केंद्र बिहार में स्थिति की समीक्षा के लिए 3 सदस्यीय टीम भेज रहा है क्योंकि यहां मामले बढ़ रहे हैं.

क्या अमेरिका जितने टेस्ट बिहार में हो रहें हैं?

बीते दिन, नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से सवाल करते हुए ट्वीट किया था. उन्होंने कहा ‘कि अमेरिका में 1,38,000 लोग मरे हैं… क्या मुख्यमंत्री, बिहार में भी इतने लोगों को मरवाना चाहते हैं? इस दौरान उन्होंने सवाल किया कि, क्या बिहार में अमेरिका जितने टेस्ट हो रहे है? वह इतने पर ही नहीं रुके… इसके बाद उन्होंने पूछा.. क्या अमेरिका में ICU में मछली तैरती है, और डॉक्टर ठेले पर बैठकर अस्पताल जाते है? और हाँ, अमेरिका में EVM नहीं बैलेट से चुनाव होता है.’

बिहार  में Case Positivity Rate सबसे ज्यादा है

इसके बाद उन्होंने बिहार में जांच के आंकड़ो को सामने रखते हुआ एक और ट्वीट किया. उन्होंने लिखा ‘बिहार में जाँच सबसे कम और Case positivity rate देश में सबसे ज़्यादा है. आबादी और क्षेत्रफल के लिहाज से बिहार के समकक्ष राज्य 30-40 हजार जाँच प्रतिदिन कर रहे हैं वही बिहार बमुश्किल पिछले 3 दिन से 10 हजार जाँच कर पा रहा है. विगत 4 महीनों में बिहार में प्रतिदिन 4159 औसत जाँच हुआ है.’

स्वास्थ्य मंत्रालय की टीम जाएगी जाएजा लेने

बता दें कि कोरोना वायरस की स्थिति का जायजा लेने के लिए स्वास्थ्य मंत्रालय में ज्वाइंट सेक्रेटरी लव अग्रवाल के नेतृत्व में एक टीम बिहार जाएगी. बिहार में कोरोना के मामले बढ़ रहे हैं और इसको लेकर राज्य के शहरी इलाकों में 31 जुलाई तक लॉकडाउन लगाया गया है.

Leave a Reply