Thursday , October 6 2022
बैकफुट पर आई सरकार, वापस ली Aadhaar Card पर जारी नई एडवाइजरी
बैकफुट पर आई सरकार, वापस ली Aadhaar Card पर जारी नई एडवाइजरी

बैकफुट पर आई सरकार, वापस ली Aadhaar Card पर जारी नई एडवाइजरी

नई दिल्ली। Aadhaar Card से जुड़ी नई एडवाइजरी को लेकर चौतरफा विरोध के बाद सरकार ने इसे तत्काल प्रभाव से वापस ले लिया है। साथ ही इसे एक सामान्य गतिविधि बताया है। इसी के साथ सरकार ने आम लोगों को फिर से भरोसा दिलाया कि Aadhaar से पहचान का इकोसिस्टम सुरक्षित है. कार्ड धारक की पहचान और निजता की सुरक्षा के लिए इसमें पर्याप्त सुरक्षा फीचर्स दिए गए हैं।
इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्यागिकी मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण (UIDAI) की लेटेस्ट एडवाइजरी को तत्काल प्रभाव से वापस लिया जाता है। इसके गलत अर्थों में समझे जाने की संभावना को देखते हुए सरकार ने ये फैसला किया है। UIDAI ने आधार संख्या को शेयर करने की सामान्य प्रक्रियाओं के बारे में परामर्श देने के लिए ये प्रेस रिलीज जारी की थी। ये एक सामान्य गतिविधि है।

आधार कार्ड (Aadhar Card) की फोटोकॉपी हर किसी संगठन के साथ शेयर नहीं करने की UIDAI की प्रेस रिलीज वायरल होने के बाद सरकार ने रविवार को इस पर स्पष्टीकरण जारी किया है। सरकार ने इस प्रेस रिलीज में दी गई एडवाइज को तत्काल प्रभाव से वापस भी ले लिया है। दरअसल 27 मई को इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय और भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण द्वारा जारी एक प्रेस रिलीज जारी की गई थी। इसमें कहा गया था कि आधार कार्डधारक सिर्फ यूआईडीएआई द्वारा लाइसेंस प्राप्त संगठन को ही आईडी (ID) का रूप में आधार की फोटोकॉपी दिखाएं और इसके अलावा अन्य संगठन को नहीं दिखाएं। रिलीज में आधार कार्ड के मिसयूज हो सकने की बात कही गई थी। अब इलेक्ट्रॉनिक्स एवं सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय ने कहा है कि वह पिछली एडवाइज को तत्काल प्रभाव से वापस लेता है, क्योंकि इसकी लोग गलत व्याख्या कर सकते हैं। आइए सरकार के पहले और दूसरे बयान पर नजर डालते हैं।
यूआईडीएआई और मंत्रालय ने 27 मई को जारी प्रेस रिलीज में कहा था कि हर किसी संगठन को अपने आधार कार्ड की फोटोप्रति नहीं दें, क्योंकि इसका दुरुपयोग हो सकता है। इसके बजाए मास्क आधार कार्ड (Mask Aadhar Card) का उपयोग करें। रिलीज में कहा गया कि होटल और सिनेमा हॉल जैसे बिना लाइसेंसधारी निजी संस्थानों को आधार कार्ड की प्रति लेने और उसे अपने पास रखने की अनुमति नहीं है। यह आधार कार्ड एक्ट 2016 का उल्लंघन है। रिलीज में कहा गया कि केवल वही संगठन जिन्हें यूआईडीएआई द्वारा यूजर लाइसेंस प्राप्त हैं, वे ही किसी व्यक्ति की पहचान सत्यापित करने के लिए आधार कार्ड का उपयोग कर सकते हैं। गैर-लाइसेंसधारी संगठनों को यह अनुमति प्राप्त नहीं है।
रिलीज में कहा गया था कि अगर कोई निजी संस्था आपका आधार कार्ड देखने की मांग करती है या आपके आधार कार्ड की फोटोप्रति मंगाती है, तो यह जांच कर लें कि उनके पास यूआईडीएआई से वैध यूजर लाइसेंस है या नहीं। सरकार ने एडवाइजरी में कहा कि कार्डधारकों को किसी इंटरनेट कैफे, कियोस्क आदि पर पब्लिक कंप्यूटर के माध्यम से ई-आधार डाउनलोड करने से बचना चाहिए। हालांकि, अगर आप ऐसा करते हैं, तो यह सुनिश्चित करें कि आप कंप्यूटर से ई-आधार की डाउनलोडेड कॉपीज हमेशा के लिए डिलीट कर चुके हों।
सरकार ने पुरानी प्रेस रिलीज वायरल हो जाने के बाद रविवार को स्पष्टीकरण जारी कर कहा कि वह प्रेस रिलीज यूआईडीएआई के बेंगलुरू कार्यालय द्वारा जारी की गई थी। स्पष्टीकरण में कहा गया, ‘यह प्रेस रिलीज फोटोशॉप्ड आधार कार्ड के मिसयूज के संदर्भ में जारी की गई थी। यह रिलीज लोगों को सलाह देती है कि हर किसी संगठन को अपने आधार कार्ड की फोटोकॉपी नहीं दें, क्योंकि इसका मिसयूज हो सकता है। इसके बजाए मास्क्ड आधार कार्ड का उपयोग किया जा सकता है, जिसमें आधार कार्ड के लास्ट के 4 डिजिट ही दिखाई देते हैं।’ स्पष्टीकरण में आगे कहा गया, ‘हालांकि, प्रेस रिलीज से गलत अर्थ निकाले जाने की संभावना को देखते हुए इसे तत्काल प्रभाव से वापस लिया जाता है। यूआईडीएआई द्वारा कार्डधारकों को यही सलाह दी जाती है कि वे सामान्य विवेक के आधार पर सावधानी से आधार कार्ड का उपयोग करना जारी रखना रखें।’
भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण की वेबसाइट पर जाकर मास्क आधार कार्ड डाउनलोड किया जा सकता है। इसके लिए सबसे पहले आपको https://myaadhaar.uidai.gov.in पर जाना होगा। यहां आपको ‘Do you want a masked Aadhaar’ ऑप्शन दिखाई देगा। इसे क्लिक करें और मांगी गई जानकारी दर्ज करें। इसके बाद मास्क आधार कार्ड डाउनलोड कर लें।

यह भी पढ़ें

सरकार की नई एडवाइजरी : ID के लिए करते हैं Aadhaar Card का इस्तेमाल तो हो जाएं सावधान !