Thursday , June 30 2022

महबूबा मुफ़्ती के बयान पर मचा घमासान, जलाए गए पुतले; जानें क्या है पूरा मामला

नई दिल्ली: जम्मू-कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ़्ती के तिरंगे पर दिए बयान से राजनितिक पार्टीयों में घमासान मच गया है। बीते शनिवार को आरएसपुरा में पूर्व मुख्यमंत्री का पुतला फूंक कर लोगों ने प्रदर्शन किया। समाज सेवक इंद्रजीत सूदन की अगुवाई में काफी संख्या में लोगों आरएसपुरा स्थित शिव नगर चौक पर महबूबा मुफ्ती का पुतला जलाकर उनके खिलाफ मामला दर्ज कर कार्रवाई करने की मांग की। सूदन ने कहा कि राज्य से अनुच्छेद 370 हटाने के बाद अब यहां पीडीपी जैसी पार्टियां अपना पाकिस्तानी एजेंडा नहीं चला पा रही हैं। ऐसे में ये लोग देश के खिलाफ बयान देकर माहौल खराब कर रहे हैं। प्रदर्शन करने वालों में रमेश चौधरी, दयाराम, सतपाल गुप्ता, धर्मपाल गुप्ता, प्रदीश कुमार, अनिल कुमार, मुलख राज, रमेश चौधरी आदि मुख्य रूप से मौजूद रहे।

क्या था मुफ़्ती का बयान

पीडीपी अध्यक्ष और जम्मू-कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने बीते 23 अक्टूबर को केंद्र सरकार पर निशाना साधते हुए कहा था कि जम्मू एवं कश्मीर का झंडा नहीं मिल जाता, वह कोई अन्य झंडा नहीं फहराएंगी। मुफ्ती श्रीनगर में गुपकर रोड स्थित अपने आवास के बाहर पूर्व राज्य जम्मू एवं कश्मीर का झंडा और अपनी पार्टी का झंडे के साथ पत्रकारों के सामने उपस्थित हुईं। मुफ्ती ने पत्रकारों से कहा कि उन्हें जम्मू एवं कश्मीर के लोगों में दिलचस्पी नहीं है। वो जो चाहते हैं, वह क्षेत्र है, जो बीते वर्ष पांच अगस्त तक कानूनी रूप से यहां के लोगों के पास था। लेकिन उन्होंने उस रिश्ते को तोड़ दिया जो परिग्रहण पर आधारित था। हमने एक उदार, धर्मनिरपेक्ष और लोकतांत्रिक भारत के साथ संबंध जोड़ा था, हम आज के भारत के साथ सहज नहीं है।

वहीं, सोमवार सुबह श्रीनगर में भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ताओं ने श्रीनगर में महबूबा मुफ्ती के खिलाफ प्रदर्शन किया। कुपवाड़ा के बीजेपी कार्यकर्ता श्रीनगर की मशहूर लाल चौक पहुंचे और तिरंगा फहराने की कोशिश की। लाल चौक के क्लॉक टावर पर कुपवाड़ा के बीजेपी कार्यकर्ता पहुंचे, हालांकि पुलिस ने उन्हें पकड़ लिया। चार बीजेपी कार्यकर्ताओं को हिरासत में लिया गया। बीजेपी की ओर से सोमवार को तिरंगा यात्रा निकाली जाएगी।

Leave a Reply