Friday , May 27 2022
संस्कृत, भोजपुरी समेत भारतीय भाषाएं Google Translate से जुड़ीं
संस्कृत, भोजपुरी समेत भारतीय भाषाएं Google Translate से जुड़ीं

संस्कृत, भोजपुरी समेत ये 24 भारतीय भाषाएं Google Translate से जुड़ीं

नई दिल्ली। गूगल अपने ट्रांसलेशन टूल में नई लैंग्वेज जोड़ा है। अभी तक इसमें टोटल 133 लैंग्वेज का ट्रांसलेशन किया जा सकता था लेकिन गूगल ने इसमें 24 लैंग्वेज और जोड़ दी है। जिन लैंग्वेज को जोड़ा है उसमें से कुछ लैंग्वेज भारत में बोली और लिखी जाती है। जैसे असमिया, मैथिली, भोजपुरी, संस्कृत और अन्य लैंग्वेज जोड़ी गई है। गूगल ने बताया कि नई जोड़ी गई लैंग्वेज को ग्लोबली 30 करोड़ लोग इस्तेमाल करते हैं। इसमें एक मिजो लैंग्वेज है जिसे करीब 8 लाख लोग बोलते हैं। इसके अलावा ओरोमो को इथियोपिया और केन्या में करीब 3.7 करोड़ लोग इस्तेमाल करते हैं।
इन नई लैंग्वेज को जोड़ने के लिए गूगल ने कई प्रोफेसरों और लैंग्वेज के जानकारों को शामिल किया है। जो इन लैंग्वेज को बोलते हैं। ये जीरो-शॉट मशीन ट्रांसलेशन का इस्तेमाल करके Google Translate में जोड़ी गई पहली भाषाएं हैं।
ये टेक्नोलॉजी एक मशीन लर्निंग मॉडल का इस्तेमाल करती है जो बिना किसी उदाहरण को देखे दूसरी लैंग्वेज में ट्रांसलेट करती है। गूगल का कहना ये टेक्नोलॉजी अभी पूरी तरह सटीक नहीं है लेकिन कंपनी का वादा है कि आने वाले समय में ये ट्रांसलेशन को बेहतर बनाती जाएगी। लोग इसका अनुभव अच्छे से कर पाएंगे। कंपनी ने नए वॉलेट ऐप को पेश करने के साथ Wear OS और Android टैबलेट के लिए नए फीचर्स की भी घोषणा की।

ये नई लैंग्वेज जोड़ी गई

भोजपुरी – भारत, नेपाल और फिजी में करीब 5 करोड़ लोग इस्तेमाल करते हैं।
मिजो- पूर्वोत्तर भारत में करीब 8 लाख 30 हजार लोग इस्तेमाल करते हैं
असमिया – पूर्वोत्तर भारत
मैथिली – उत्तरी भारत में करीब 3.4 करोड़ लोग इस्तेमाल करते हैं।
मेइतेइलॉन (मणिपुरी) – पूर्वोत्तर भारत में करीब दो करोड़ लोग इस्तेमाल करते हैं।
संस्कृत – भारत में करीब 20 हजार लोग इस्तेमाल करते हैं।
कोंकणी- मध्य भारत में करीब 20 लाख लोग इस्तेमाल करते हैं।
ट्वी – घाना में करीब 1.1 करोड़ लोग इस्तेमाल करते हैं।
सोंगा – इस्वातिनी, मोज़ाम्बिक, दक्षिण अफ्रीका और ज़िम्बाब्वे में 70 लाख लोग इस्तेमाल करते हैं।
टिग्रीन्या – इरिट्रिया और इथियोपिया में करीब 80 लाख लोग इस्तेमाल करते हैं।
सेपेडी – दक्षिण अफ्रीका में करीब 1.4 करोड़ लोग इस्तेमाल करते हैं।
क्वेशुआ – पेरू, बोलीविया और इक्वाडोर में करीब एक करोड़ लोग इस्तेलाल करते हैं।
ओरोमो- इथियोपिया और केन्या में करीब 3.7 करोड़ लोग इस्तेमाल करते हैं।
लुगांडा – युगांडा और रवांडा में करीब दो करोड़ लोग इस्तेमाल करते हैं।
लिंगाला – कांगो लोकतांत्रिक गणराज्य, कांगो गणराज्य, मध्य अफ्रीकी गणराज्य, अंगोला और दक्षिण सूडान गणराज्य में करीब 4.5 करोड़ लोग इस्तेमाल करते हैं।
कुर्द – इराक करीब 8 लाख लोग इस्तेमाल करते हैं।
क्रियो – सिएरा लियोन करीब 40 लाख लोग इस्तेमाल करते हैं।
इलोकानो – उत्तरी फिलीपींस में करीब 10 लाख लोग इस्तेमाल करते हैं।
गुआरानी – पराग्वे, बोलीविया, अर्जेंटीना और ब्राजील में करीब 70 लाख लोग इस्तेमाल करते हैं।
ईवे – घाना और टोगो में करीब 70 लाख लोग इस्तेमाल करते हैं।
धिवेही – मालदीव तीन लाख लोग इस्तेमाल करते हैं।
बाम्बारा – माली में 1.4 करोड़ लोग इस्तेमाल करते हैं।
आयमारा – बोलीविया, चिली और पेरू