Sunday , June 26 2022

पार्टनर के साथ संबंध बनाते वक्त पुरुष करते हैं ये आम गलितयाँ

जब भी बात सेक्स की होती है तो कोई भी पुरुष इस चीज को करने के मामले में परफेक्ट नहीं होता। ज्यादातर पुरुष बिस्तर पर अपने पार्टनर के साथ संबंध बनाते समय कुछ गलतियां कर देते हैं। आपकी इन छोटी-छोटी गलतियों की वजह से आपका पार्टनर निराश हो सकता है और आपको उनके सामने शर्मिंदगी महसूस हो सकती है। बिस्तर पर पार्टनर के साथ संबंध बनाते समय गलतियां करना कोई गलत बात नहीं हैं, और इन्हें सुधारने के लिए आपको ज्यादा मशक्कत करने की भी जरूरत नहीं हैं। इन गलतियों से बचने के लिए आपको बस अपने सोचने का तरीका थोड़ा बदलना होगा। सोच में बदलाव से आपकी सेक्स लाइफ में भी काफी सकारात्मक बदलाव आ सकते हैं। नीचे हमने कुछ गलतियां बताई हैं जिन्हें पुरुषों को ध्यान में रखकर सुधार लेना चाहिए। इससे यकीनन आपकी सेक्स लाइफ बेहतर होगी।

Mistake 1: सेक्स की शुरआत बिस्तर से करना

ज्यादातर पुरुषों को लगता है कि सेक्स करने के लिए बेडरूम सही जगह है, लेकिन महिलाओं के लिए ऐसा नहीं होता है। सेक्स थेरेपिस्ट इयान केर्नर के अनुसार, पुरुष रोशनी की तरह जल्दी से चालू हो जाते हैं जबकि महिलाओं को शुरू होने में समय लगता है। पुरुषों को यह बात ध्यान रखनी चाहिए कि उन्हें सेक्स से पहले अपनी पार्टनर को गले लगाना चाहिए और उन्हें किस करना चाहिए। पुरुषों की यह हरकतेँ महिलाओं को आगे बढ़ने के लिए प्रेरित करती हैं और वह बिस्तर पर अच्छे से एन्जॉय कर पाती हैं।

Mistake 2: यह सोचना कि आप सब जानते हैं कि वह क्या चाहती है

अगर आप एक अच्छा सेक्स सेशन चाहते हैं तो अपने पार्टनर की हमेशा राय माँगें। सेक्स थेरेपिस्ट इयान केर्नर के अनुसार, पुरुषों को सेक्स के दौरान अपने पार्टनर से डायरेक्शन पूछते रहना चाहिए। उन्हें अपने पार्टनर से यह पूछने में संकोच नहीं करना चाहिए। बेहतर सेक्स के लिए आप अपने पार्टनर से सवाल करें जैसे वह कैसा महसूस कर रही हैं? उन्हें कुछ अलग करना है? उन्हें कोई नयी पोजीशन ट्राई करनी है?

Mistake 3: सिर्फ फिजिकल सेक्स पर ध्यान देना

ज्यादातर पुरुष सेक्स करने पर ज्यादा ध्यान देते हैं और इस दौरान वह फोरप्ले को बिलकुल नजरअंदाज कर देते हैं। आपको यह बात जानकर हैरानी होगी कि महिलाओं को सेक्स से पहले फोरप्ले करना ज्यादा पसंद होता है। सेक्स थेरेपिस्ट इयान केर्नर कहते हैं कि पुरुषों को फोरप्ले को लेकर अपनी सोच का विस्तार करना चाहिए। पुरुष जो देखते हैं उससे उत्तेजित हो जाते हैं, लेकिन महिलाओं के साथ ऐसा नहीं होता है।