Friday , May 27 2022

बड़ो के बाद अब बच्चों में भी दिख रहा कोरोना वाइरस का ये लक्षण

नई दिल्ली: जब से कोरोना वायरस महामारी शुरू हुई. तब से COVID-19 के कारण होने वाले संक्रमण के लक्षणों की लिस्ट सिर्फ लंबी होती जा रही है. शुरुआत में सिर्फ बुख़ार, खांसी और सांस लेने में परेशानी को कोरोना वायरस के तीन लक्षण के रूप में जाना जा रहा था. हालांकि, जैसे-जैसे समय बीता स्वाद और सुगंध का महसूस न होना, मांसपेशियों में दर्द, सिर दर्द आदि जैसे लक्षण भी इस लिस्ट में शामिल हो गए.

ऐसी में लिस्ट लगातार लंबी होती जा रही है. वो है उन लोगों की जो पहले से किसी न किसी बीमारी से पीड़ित हैं और कोरोना वायरस का जोखिम इनमें कहीं अधिक है. शुरुआत में यह भी बताया गया था कि संक्रमण की वजह से बच्चों में हल्के लक्षण विकसित हो सकते हैं. लेकिन फिर बच्चों में भी कावासाकी जैसी बीमारी और अन्य जटिलताएं दर्ज की गई हैं.

कोविड-19 से संक्रमित बच्चों पर अध्ययन

क्वीन्स यूनिवर्सिटी की एक टीम बेलफास्ट जो कि काफी समय से कोविड-19 से संक्रमित बच्चों पर अध्ययन कर रहा है इसके अनुसार पेट में गड़बड़ी कोरोना वायरस के कारण संक्रमण का संकेत हो सकता ह. यूएस सीडीसी के अनुसार, दस्त को वयस्कों में कोविड-19 के संभावित लक्षण के रूप में बताया गया है क्योंकि कई मरीज़ ऐसे लक्षणों के संकेत दे चुके हैं. इंग्लैंड में, हालांकि, कोविड-19 के मान्यता प्राप्त लक्षण बुखार, खांसी और स्वाद और गंध का न महसूस होना हैं.

शोध में सामने आया

लगभग 1000 बच्चों और उनके रक्त के नमूनों का अध्ययन किया गया था ये पता लगाने के लिए कि क्या उन्हें हाल ही में कोरोना वायरस हुआ था. परिणाम प्री-प्रिंट MedRvix में प्रकाशित किए गए थे. निष्कर्षों से पता चला कि 992 बच्चों में से 68 में वायरस के एंटीबॉडी थे, जिससे ये पता चलता है कि वे कभी SARS-CoV-2 से संक्रमित थे. इनमें से आधे बच्चों में कुछ लक्षण भी देखने को मिले थे.

68 में से 21 बच्चों में पाया गया आम लक्षण

इनमें सबसे आम लक्षण था बुख़ार जो 68 में से 21 बच्चों में पाया गया. खांसी भी एक आम लक्षण के तौर पर देखी गई. लेकिन यह लक्षण उन बच्चों में देखा गया जो परीक्षण में कोविड नेगेटिव पाए गए. हालांकि गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल लक्षण 68 बच्चों में से 13 बच्चों में देखे गए और कोविड-19 से जुड़े हुए पाए गए.

Leave a Reply