Monday , September 26 2022
UP : CM Yogi ने टीम-9 के अधिकारियों के साथ बैठक कर जारी किए ये दिशा-निर्देश
UP : CM Yogi ने टीम-9 के अधिकारियों के साथ बैठक कर जारी किए ये दिशा-निर्देश

UP : CM Yogi ने टीम-9 के अधिकारियों के साथ बैठक कर जारी किए ये दिशा-निर्देश

लखनऊ। यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने बुधवार को कोविड-19 के संबंध में गठित समितियों के अध्यक्षों के साथ बैठक की। मुख्यमंत्री ने कहा कि संक्रमित मरीजों के स्वास्थ्य पर सतत नजर रखी जाए। बच्चों के टीकाकरण और वयस्कों के बूस्टर डोज लगाए जाने की प्रक्रिया को और तेज करने की जरूरत है। मुख्यमंत्री को अवगत कराया गया कि उत्तर प्रदेश में अब तक कोविड टीके की 31.85 करोड़+ डोज लगाई जा चुकी है, जबकि 11.23 करोड़+ कोविड टेस्ट भी किए जा चुके हैं। 18+ आयु की पूरी आबादी को टीके की कम से कम एक डोज लग चुकी है, जबकि 89.86% वयस्क लोगों को दोनों खुराक मिल चुकी है। 15 से 17 आयु वर्ग में 95.85% से अधिक किशोरों को पहली खुराक मिल चुकी है और 69.80% से अधिक किशोरों को दोनों डोज लग चुकी है। 12 से 14 आयु वर्ग में 70% से अधिक बच्चे टीकाकवर पा चुके हैं, इन्हें सेकेंड डोज लगाया जाना भी शुरू हो चुका है। मुख्यमंत्री को अवगत कराया गया कि ट्रैक, टेस्ट, ट्रीट और टीकाकरण की नीति के सफल क्रियान्वयन से उत्तर प्रदेश में कोविड पर प्रभावी नियंत्रण बना हुआ है। वर्तमान में प्रदेश में कुल 1,432 एक्टिव केस हैं, जिसमें 1,374 रोगी घर पर ही स्वास्थ्य लाभ प्राप्त कर रहे हैं। कल की पॉजिटिविटी दर 0.03% रही। पिछले 24 घंटे में प्रदेश में 179 नए केस की पुष्टि हुई, जिसमें गौतमबुद्ध नगर में 56, गाजियाबाद में 37, लखनऊ में 21 नए केस शामिल हैं। जबकि इसी अवधि 231 रोगी स्वस्थ भी हुए। जिन जनपदों में कोविड केस अधिक मिल रहे हैं, वहां सार्वजनिक स्थानों पर फेस मास्क लगाया जाना अनिवार्य है। इसे लागू कराएं। इसके प्रति लोगों को जागरूक करें। टेस्ट की संख्या बढ़ाए जाने की जरूरत है। ANM/GNM के बेहतर प्रशिक्षण के लिए अवस्थापना सुविधाओं के विकास की जरूरत है। पिछले तीन दशकों से बंद पड़े प्रशिक्षण संस्थानों के पुनर्संचालन की कार्ययोजना तैयार की जाए। प्रारंभिक रूप से 09 GNM ट्रेनिंग स्कूल व 34 ANM प्रशिक्षण केंद्रों के संचालन की तैयारी करें।हर संस्थान में मानकों का कड़ाई से अनुपालन कराया जाए। सुनिश्चित करें कि फैकल्टी पर्याप्त और अच्छी हो। मेडिकल कॉलेज/जिला अस्पताल में भी इनके प्रशिक्षण की व्यवस्था होनी चाहिए। आज प्रदेश खुले में शौच से मुक्त हो चुका है। स्वच्छ भारत मिशन के अंतर्गत बने सामुदायिक शौचालय के रख-रखाव के लिए सरकार मासिक धनराशि भी देती है। यह सुनिश्चित किया जाए कि सभी सामुदायिक शौचालयों में स्वच्छ्ता रहे। शौचालयों में अनावश्यक तालाबंदी न रहे।
सड़क सुरक्षा के व्यापक महत्व को देखते हुए पुलिस, यातायात, बेसिक शिक्षा, माध्यमिक शिक्षा, प्राविधिक शिक्षा, परिवहन, नगर विकास आदि संबंधित विभागों के परस्पर समन्वय के साथ जागरूकता अभियान की कार्ययोजना तैयार की जाए। स्कूली बसों के फिटनेस, यातायात नियमों के पालन आदि के विषय में जन सहभागिता के साथ वृहद अभियान शुरू करने की तैयारी करें। प्रदेश के सभी मंत्रिगण गांवों/जिलों में दौरे कर रहे हैं। जन चौपाल में जनता से भेंट कर रहे हैं। विकास परियोजनाओं/व्यवस्थाओं की पड़ताल कर रहे हैं। मंडलीय भ्रमण से लौटे मंत्री समूहों की रिपोर्ट सभी विभागों को दी जाएगी। इन पर पर यथोचित कार्यवाही की जाए। आपातकालीन सेवा 108/102 के संचालन की व्यवस्था को और बेहतर करने की जरूरत है। इसके लिए मंडलों का क्लस्टर तैयार किया जा सकता है। सभी बिंदुओं पर विचार कर अच्छी कार्ययोजना प्रस्तुत की जाए।