Saturday , May 21 2022
लद्दाख सीमा (Ladakh Border) पर भारत और चीन (India-China Faceoff) के बीच दोनों सेनाओ में सोमवार देर रात झड़प, इस झड़प में भारतीय सेना के एक अधिकारी और दो जवान शहीद हो गए हैं

Ladakh: गलवान घाटी में हिंसक झड़प, चीन के 5 सैनिक मारे गए

लद्दाख। लद्दाख में गलवान घाटी के पास भारत और चीन सैनिकों में हिंसक झड़प हुई है। यह झड़प सोमवार की रात को हुई है। इस झड़प में भारतीय सेना के एक अधिकारी समेत दो जवान शहीद हो गए। वहीं इस झड़प में पांच चीनी सैनिकों के भी मारे जाने की खबर हैं। वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) पर हूई इस झड़प पर भारतीय सेना की ओर जारी बयान में कहा गया है कि गलवान घाटी में सोमवार की रात को डि-एस्केलेशन की प्रक्रिया के दौरान भारत और चीन के सैनिकों के बीच हिंसक झड़प हुई है। इसमें भारतीय सेना के एक अफसर और दो जवान शहीद हो गए हैं। सेना के सूत्रों के मुताबिक, भारत और चीन के प्रमुख जनरल लद्दाख के गलवान घाटी और अन्य क्षेत्रों में स्थिति को सामान्य करने के लिए बातचीत की जी रही है।

सेना ने अपने बयान में कहा है कि, लद्दाख के गलवान घाटी में चीन के साथ डी-एस्केलेशन प्रक्रिया के दौरान “दोनों पक्ष हताहत हुए। वही जानकारी मिल रही है की चीनी सेना में 5 चीनी सैनिको के मारे जाने की खबर हैं।

सेना के सूत्रों के अनुसार, भारत और चीन के प्रमुख जनरल लद्दाख के गलवान घाटी और अन्य क्षेत्रों में स्थिति को सामान्य करने के लिए बातचीत कर रहे हैं। चीन और भारतीय पक्ष ने सीमा पर बनी स्थिति को सही करने और सीमा क्षेत्रों में शांति बनाए रखने के लिए बातचीत के माध्यम से द्विपक्षीय मुद्दों को हल करने पर सहमति जताई।

चीन के ग्लोबल टाइम्स ने विदेश मंत्री को क्वोट के मुताबित, भारतीय सैनिकों ने सोमवार को अवैध रूप से दो बार सीमा पार करके, चीनी सैनिकों पर हमलों को अंजाम देकर दोनों पक्षों की सहमति का उल्लंघन किया जिसके चलते गंभीर शारीरिक झड़पें हुईं।

बता दें, पिछले महीने की शुरुआत में विरोध शुरू होने के बाद भारतीय सैन्य नेतृत्व ने फैसला किया था कि भारतीय सैनिक पैंगोंग सो, गलवान घाटी, डेमचोक तथा दौलत बेग ओल्डी के सभी विवादित क्षेत्रों में चीनी सैनिकों के आक्रामक अंदाज से निपटने के लिए कड़ा रुख अपनाएंगे।

पिछले महीने की शुरुआत से ही भारत और चीन के बीच लद्दाख बॉर्डर के पास माहौल काफी तनावपूर्ण बना हुआ हैं। वही मई महीने में चीनी सैनिको ने अपनी बेशर्मी देखते हुए भारत द्वारा तय की गई एलएसी को पार कर लिया था। उन्होंने पेंगोंग झील, गलवान घाटी के पास आकर अपने तंबू गाढ़ लिए थे। वही मिली जानकारी के अनुसार, इस तंबू में यहां पर करीब पांच हजार सैनिकों को तैनात किया गया था, इसके अलावा सैन्य सामान भी इकट्ठा किया गया था।

मिली जानकारी के अनुसार, चीन ने भारत पर पर सीमा पार करने और उसके सैनिकों पर हमला करने का आरोप लगाया है। जब चीन के विदेश मंत्रालय से दोनों सेनाओं के बीच झड़प को लेकर सवाल किया तो उसने भारत से एकतरफा कार्रवाई से बचने को कहा, ताकि समस्या और न बढ़े।

 

Leave a Reply