Thursday , October 6 2022
Video में देखिए जब लाभार्थी की बेटी से बात कर भावुक हुए PM Modi
Video में देखिए जब लाभार्थी की बेटी से बात कर भावुक हुए PM Modi

Video में देखिए जब लाभार्थी की बेटी से बात कर भावुक हुए PM Modi

अहमदाबाद। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए भरूच (गुजरात) में ‘उत्कर्ष समारोह’ में एक दृष्टिविहीन लाभार्थी से बात करते हुए भावुक हो गए। पीएम मोदी ने कहा कि आज का ये उत्कर्ष समारोह इस बात का प्रमाण है कि जब सरकार ईमानदारी से, एक संकल्प लेकर लाभार्थी तक पहुंचती है, तो कितने सार्थक परिणाम मिलते हैं। मैं भरूच जिला प्रशासन को, गुजरात सरकार को सामाजिक सुरक्षा से जुड़ी 4 योजनाओं के शत-प्रतिशत सैचुरेशन के लिए बधाई देता हूं। 2014 में जब आपने हमें सेवा का मौका दिया था तो देश की करीब-करीब आधी आबादी शौचालय की सुविधा से, टीकाकरण की सुविधा से, बिजली कनेक्शन की सुविधा से, बैंक अकाउंट की सुविधा से वंचित थी। इन वर्षों में हम, सभी के प्रयासों से अनेक योजनाओं को शत प्रतिशत सैचुरेशन के करीब ला पाए हैं। शत-प्रतिशत लाभार्थियों की कवरेज यानि हर मत, हर पंथ हर वर्ग को एक समान रूप से सबका साथ, सबका विकास। गरीब कल्याण की हर योजना से कोई छूटे ना, कोई पीछे ना रहे।
पीएम मोदी (Narendra Modi) ने गुजरात के भरूच में आयोजित ‘उत्कर्ष समारोह’ (Utkarsh Samaroh) के लाभार्थियों से बातचीत की। पीएम मोदी कार्यक्रम वर्चुअली शामिल हुए। लाभार्थियों से बातचीत के दौरान एक पल ऐसा भी आया जब पीएम भावुक हो गए। बता दें कि गुजरात के मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल भी इस कार्यक्रम में मौजूद रहे।
पीएम एक लाभार्थी की बेटी से बातचीत के दौरान भावुक हो गए। लाभार्थी ने बताया कि उसकी बेटी आल्या बड़ी होकर डॉक्टर बनना चाहती है। पीएम मोदी ने लाभार्थी की बेटी आल्या से बात की। पीएम ने पूछा कि उसे डॉक्टर बनने का विचार कब आया? आल्या ने बताया कि पिता जी की तबीयत को देखकर उसे डॉक्टर बनने का ख्याल आया… ये बोलते ही आल्या रुक गई और भावुक हो गई। उसे देखकर पीएम मोदी भी भावुक हो गए और उनकी आंखों से आंसू छलक गए।
मोदी ने कुछ सेकंड रुके और कहा, ‘बेटी तुम्हारी संवेदना ही तुम्हारी ताकत है।’ मोदी ने आल्या के पिता से ये भी कहा, ‘बेटियों का सपना आपको पूरा करना है और कुछ कठिनाई हो तो मुझे बताना।’ पीएम मोदी ने जब ये बातें कही तो वहां मौजूद लोगों ने जमकर तालियां बजाई
लाभार्थियों से बातचीत के बाद पीएम ने उन्हें संबोधित भी किया। पीएम ने कहा, ‘ये उत्कर्ष समारोह इस बात का प्रमाण है कि जब सरकार ईमानदारी से, एक संकल्प लेकर लाभार्थी तक पहुंचती है, तो कितने सार्थक परिणाम मिलते हैं। मैं भरूच जिला प्रशासन को, गुजरात सरकार को सामाजिक सुरक्षा से जुड़ी 4 योजनाओं के 100 फीसदी पूरा होने के लिए बधाई देता हूं।’
मोदी ने कहा कि अक्सर जानकारी के अभाव में अनेक लोग योजनाओं के लाभ से वंचित रह जाते हैं। कभी-कभी योजनाओं कागज पर रह जाती हैं, लेकिन जब इरादा साफ हो, नीति साफ हो, नेकी से काम करने का इरादा हो, सबका साथ-सबका विकास की भावना हो, तो इससे नतीजे भी मिलते हैं।
पीएम ने कहा कि दिल्ली से देश की सेवा करते हुए मुझे 8 साल पूरे हो रहे हैं। ये 8 वर्ष सेवा सुशासन और गरीब कल्याण को समर्पित रहे। आज जो कुछ भी मैं कर पा रहा हूं, वो मैंने आपके बीच ही सीखा है। 2014 में जब आपने हमें सेवा का मौका दिया था तो देश की करीब-करीब आधी आबादी शौचालय की सुविधा से, टीकाकरण की सुविधा से, बिजली कनेक्शन की सुविधा से, बैंक अकाउंट की सुविधा से वंचित थी। सभी के प्रयासों से अनेक योजनाओं को शत प्रतिशत सैचुरेशन के करीब ला पाए हैं।
देश ने संकल्प लिया है शत प्रतिशत लाभार्थियों तक पहुंचने का। जब शत प्रतिशत पहुंचते हैं तब सबसे पहला मनोवैज्ञानिक परिवर्तन आता है वो बहुत महत्वपूर्ण है। उसमें देश का नागरिक याचक की अवस्था से बाहर निकल जाता है। मैंने पहले भी कहा कि ऐसे काम कठिन होते हैं, राजनेता भी उन पर हाथ लगाने से डरते हैं, लेकिन मैं राजनीति करने के लिए नहीं, देशवासियों की सेवा करने के लिए आया हूं। देश ने संकल्प लिया है, शत-प्रतिशत लाभार्थियों तक पहुंचने का।
मोदी ने कहा कि हमारी सरकार सामाजिक सुरक्षा, जन कल्याण और गरीब की गरिमा के लिए है। गरीब की गरिमा के लिए संकल्प और गरीब की गरिमा के संस्कार, यही तो हमें प्रेरित करते हैं।
बता दें कि भरुच में राज्य सरकार की चार प्रमुख योजनाओं में 100 प्रतिशत लक्ष्य पूरा होने पर इस कार्यक्रम का आयोजन किया जा रहा है। इन योजनाओं के जरिए जरूरतमंद लोगों को समय पर वित्तीय सहायता प्रदान की गई है। ये योजनाएं हैं- ‘गंगा स्वरूप आर्थिक सहायता योजना’, ‘इंदिरा गांधी वृद्ध सहाय योजना’, ‘निराधार वृद्ध आर्थिक सहायता योजना’ और ‘राष्ट्रीय कुटुम्ब सहाय योजना’।
लक्ष्य को हासिल करने के लिए भरूच के जिला प्रशासन ने इस साल 1 जनवरी से 31 मार्च तक ‘उत्कर्ष पहल’ अभियान चलाया था। इस अभियान का उद्देश्य विधवाओं, बुजुर्गों और निराश्रित नागरिकों को सहायता प्रदान करने वाली योजनाओं का पूर्ण कवरेज सुनिश्चित करना है। राज्य सरकार की चार योजनाओं के लिए जिले में 12,854 लाभार्थियों की पहचान की गई थी।
अभियान के दौरान, तालुका स्तर पर व्हाट्सएप हेल्पलाइन नंबरों की घोषणा की गई और उन लोगों के बारे में जानकारी इकट्ठा की गई जिन्हें योजना का लाभ नहीं मिल रहा था। इसके बाद जिले के नगर पालिका क्षेत्र के सभी ग्रामों और वार्डों में उत्कर्ष शिविर का आयोजन किया गया, जिसमें आवश्यक दस्तावेज उपलब्ध कराने वाले आवेदकों को मौके पर ही अनुमति दी गई।