Monday , September 26 2022
कौन हैं सिद्धू मूसेवाला की हत्या में शामिल लॉरेंस बिश्नोई और गोल्डी बरार?
कौन हैं सिद्धू मूसेवाला की हत्या में शामिल लॉरेंस बिश्नोई और गोल्डी बरार?

कौन हैं सिद्धू मूसेवाला की हत्या में शामिल लॉरेंस बिश्नोई और गोल्डी बरार?

चंडीगढ़। मशहूर पंजाबी गायक शुभदीप सिंह सिद्धू उर्फ सिद्धू मूसेवाला (Sidhu Moose Wala) की रविवार शाम सरेआम हत्या कर दी गई। मानसा जिले के उनके गांव जवाहरके में हमलावरों ने मूसेवाला पर AK-47 से ताबड़तोड़ फायरिंग की। एक दिन पहले ही, शनिवार को पंजाब सरकार ने सिद्धू मूसेवाला की सुरक्षा घटाई थी और चार में से दो सुरक्षाकर्मी वापस बुला लिए गए थे। सिद्धू मूसेवाला की हत्या की जिम्मेदारी गैंगस्टर गोल्डी बराड़ (Goldy Brar) ने ली है। गोल्डी बराड़ इस समय कनाडा में है। पंजाब के डीजीपी वीके भावरा ने प्रेस कॉन्‍फ्रेंस में कहा कि मूसेवाला की हत्‍या के लिए बराड़ और जेल में बंद गैंगस्‍टर लॉरेंस बिश्नोई (Lawrence Bishnoi) जिम्‍मेदार हैं। मानसा पुलिस ने बताया कि सिद्धू मूसेवाला शाम को दो साथियों के साथ अपनी थार गाड़ी से दोस्त से मिलने के लिए निकले थे। मूसेवाला खुद गाड़ी चला रहे थे। एक दोस्त फ्रंट सीट पर और दूसरा पिछली सीट पर बैठा था। घर से कुछ दूर ही काले रंग की गाड़ी में सवार हमलावरों ने उन पर फायरिंग कर दी। करीब से 30 से 40 फायर किए गए। हमलावार फरार हो गए। मूसेवाला को 6 गोलियां लगीं। दोस्त भी घायल हुए। मौके पर पहुंचे गांववालों ने सभी घायलों को अस्पताल पहुंचाया। जहां डाक्टरों ने सिद्धू मूसेवाला को मृत घोषित कर दिया। हत्या के तीन घंटे बाद गोल्डी बराड़ ने फेसबुक पोस्ट डालकर वारदात की जिम्मेदारी ली। उसने लिखा कि मेरे साथी की हत्या के मामले में मूसेवाला का नाम आया था, लेकिन अपनी पहुंच के चलते वह बच गया और सरकार ने उसे सजा नहीं दी, इसलिए हत्या को अंजाम दिया है।
देश में एक से बढ़कर एक अपराधी हुए जिन्होंने जुर्म की दुनिया को खून से सींचा और खुद को बड़ा बनाया। कुछ ऐसे थे जिन्हें हालातों ने अपराधी बनाया तो वहीं कुछ लॉरेंस विश्नोई जैसे भी हैं, जिन्हें शौक है कि उनको देशभर में जाना जाए। हालांकि, लॉरेंस को जाना गया लेकिन उसके अपराधों के कारण..लॉरेंस विश्नोई नाम उस वक्त चर्चा में आया, जब इसके साथी संपत नेहरा और नरेश शेट्टी को अभिनेता सलमान खान को मारने की साजिश करते हुए पकड़ा गया था। हालांकि उस पूरे प्रकरण का मास्टरमाइंड लॉरेंस विश्नोई ही था। पंजाब पुलिस ने कहा है कि सिद्धू मूसेवाला की हत्या में लॉरेंस बिश्नोई गैंग और कनाडा में रहने वाला गैंगस्टर गोल्डी बरार शामिल हैं। बिश्नोई गैंग में शामिल बरार भारत में कई आपराधिक मामलों में वांछित है। वहीं, बिश्नोई राजस्थान की जेल में बंद है जिसके गैंग के दिल्ली, राजस्थान, पंजाब और हरियाणा में आपराधिक रिकॉर्ड हैं।
22 फरवरी 1992 में पंजाब के फजिल्का में पैदा हुए लॉरेंस विश्नोई की उम्र 29 के करीब है। काफी संपन्न परिवार से आने वाला विश्नोई चंडीगढ़ विश्वविद्यालय का छात्र रहा और छात्र संघ का चुनाव भी लड़ चुका है। हालांकि इन चुनावों में वह हार गया। बस वहीं से जिंदगी की दिशा उल्टी हो गई। 29 की उम्र में 50 के करीब आपराधिक केसों के इतिहास वाले लॉरेंस ने दर्जनों बार जेल का मुंह देखा पर कभी सुधरने की कोशिश नहीं की। लॉरेंस के ऊपर हत्या, फिरौती, वसूली, लूट, डकैती और हत्या की साजिश जैसे संगीन जुर्मों में केस दर्ज हैं।
लॉरेंस विश्नोई देश की ऐसी गैंग का सरदार है, जिसमें करीब 500 शार्प शूटर हैं। सलमान खान प्रकरण में पकड़े गए संपत नेहरा और नरेन्द्र शेट्टी ने खुद इस बात का खुलासा पुलिस पूछताछ में किया था। विश्नोई का गैंग दिल्ली-एनसीआर, राजस्थान, पंजाब, हरियाणा सहित यूपी के भी कई हिस्सों तक फैला है। जब सलमान खान रेडी फिल्म की शूटिंग कर रहे थे, तभी उन्हें निशाना बनाने का प्लान था; लेकिन वह असफल हो गया था।
संपत नेहरा ने पुलिस की पूछताछ में बताया था कि विश्नोई, सलमान से तब से नाराज था, जब से उन पर काला चिंकारा को मारने का आरोप लगा था। ऐसे में लॉरेंस विश्नोई अभिनेता सलमान खान से बदला लेने के फिराक में था। विश्नोई ने योजना बनाई थी कि नरेश शेट्टी रेकी करेगा और मुंबई में ही रुकेगा। जैसे ही सलमान साइक्लिंग के लिए निकलेंगे वैसे ही हमला कर दिया जाएगा पर गुर्गों के धरे जाने के बाद योजना असफल हो गई। इसके अलावा पंजाब के कुछ नामी सिंगर भी उसके निशाने पर थे, जिनसे वह प्रोटेक्शन मनी लेने के फ़िराक में था।
लॉरेंस विश्नोई ने अपराध की दुनिया के पैंतरे को भगवानपुर, पंजाब के रहने वाले जग्गू भगवानपुरी से सीखा। बता दें कि जग्गू का नाम देश के सबसे अमीर गैंगस्टर में गिना जाता है और वह इस समय तिहाड़ जेल में बंद है। लॉरेंस ने जग्गू के साथ ही आपराधिक जीवन की शुरू की थी। वहीं दिल्ली-एनसीआर, राजस्थान, पंजाब, हरियाणा सहित यूपी के भी कई हिस्सों तक फैले जुर्म के साम्राज्य के कर्ता-धर्ता लॉरेंस विश्नोई को इस समय हाई सिक्योरिटी अजमेर जेल में रखा गया है और हाल ही में उस पर मकोका लगाया गया है। 2016 में बिश्नोई पर एक कांग्रेस नेता की हत्‍या का आरोप लगा। उसने फेसबुक के जरिए हत्‍या की जिम्‍मेदारी ली थी। मगर लॉरेंस बिश्नोई को पहचान मिली 2018 में। दिल्‍ली पुलिस ने बिश्नोई के साथ-साथ जिस सम्पत नेहरा के खिलाफ चार्जशीट दायर की, वह जून 2018 में बेंगुलुरु से पकड़ा गया था। सम्‍पत वही है जिसने पूछताछ में खुलासा किया कि वह अभिनेता सलमान खान की हत्‍या करने वाला था। सम्‍पत के अनुसार, सलमान को मारने का काम उसे बिश्नोई ने दिया था। सलमान खान को काला हिरण शिकार मामले में दोषी करार दिया गया था। पुलिस ने कहा कि लॉरेंस खुद बिश्नोई समाज से है जिनके लिए काले हिरण पूजनीय हैं। सलमान खान की हत्‍या कर लॉरेंस बिश्नोई उन काले हिरणों की हत्‍या का बदला लेना चाहता था। बिश्नोई के कथित रूप से अंतरराष्‍ट्रीय ड्रग ट्रैफिकर अमनदीप मुल्‍तानी के साथ ताल्‍लुकात हैं। मुल्‍तानी मेक्सिकन ड्रग कार्टेल्‍स से जुड़ा हुआ है। उसे इसी साल अप्रैल में अमेरिकी एजेंसी ने गिरफ्तार किया था। बिश्नोई का दूसरा इंटरनैशनल कॉन्‍टैक्‍ट यूके में रहने वाला मॉन्‍टी था जिसके इटैलियन माफिया से रिश्‍ते थे।

गोल्‍डी बराड़ कौन है?
सतिंदर सिंह उर्फ गोल्‍डी बराड़… लॉरेंस बिश्नोई का खास गुर्गा माना जाता है। पिछले साल फरीदकोट जिले की एक अदालत ने युवा कांग्रेस नेता गुरलाल सिंह पहलवान की हत्‍या के सिलसिले में बराड़ के खिलाफ ओपन-एंडेड गैर जमानती वारंट जारी किया था। 34 साल के पहलवाल को दो अज्ञात बदमाशों ने गोलियों से भून दिया था। गोल्‍डी बराड़ का नाम गुरुग्राम के एक डबल मर्डर केस (परमजीत और सुरजीत नाम के दो भाइयों की हत्‍या) में भी आया। दिल्‍ली पुलिस ने इसी साल मार्च में काला जठेड़ी, लॉरेंस बिश्नोई और नरेश सेठी गैंग के दो शार्पशूटर्स को अरेस्‍ट किया। परमजीत और सुरजीत जेल में बंद गैंगस्‍टर कौशल के करीबी थे और उनकी अजय जेलदार से रंजिश थी। जेलदार ने काला जठेड़ी-लॉरेंस बिश्नोई-नरेश सेठी और गोल्‍डी बराड़ की मदद से दोनों भाइयों को मरवाया ताकि अवैध शराब के धंधे में उसकी तूती बोलती रहे। 2 मई को पंजाब पुलिस की एंटी-गैंगस्‍टर टास्‍क फोर्स ने बठिंडा से लॉरेंस बिश्नोई और गोल्‍डी बराड़ के तीन सहयोगियों को गिरफ्तार किया। वे रंगदारी न देने पर मालवा क्षेत्र के किसी कारोबारी पर का प्‍लान बना रहे थे।

बता दें कि पंजाबी गायक सिद्धू मूस वाला के पिता बलकौर सिंह ने पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान को पत्र लिखकर उनके बेटे की मौत की सीबीआई (CBI) और एनआईए (NIA) जांच की मांग की है।