Wednesday , August 10 2022

कौन हैं ठाणे की इकलौती पार्षद

सीएम बने एकनाथ शिंदे ने पार्टी को एक और झटका दिया है। ठाणे नगर निगम के 67 विधायकों में से 66 को एकनाथ शिंदे ने तोड़ लिया है। गुरुवार को ये सभी पार्षद एकनाथ शिंदे गुट के साथ आ गए। अब ठाणे नगर निगम में शिवसेना का एक ही पार्षद बचा है और हर किसी की इसमें दिलचस्पी है कि इस बड़े संकट के बीच भी उद्धव ठाकरे को न छोड़ने वाला पार्षद कौन है। यह पार्षद कोई और नहीं बल्कि उद्धव ठाकरे के करीबी नेता राजन विचारे की पत्नी नंदिनी विचारे हैं। उन्हें ठाणे के कद्दावर नेताओं में से एक माना जाता है, जहां एकनाथ शिंदे का बड़ा प्रभाव रहा है।

25 सालों से ठाणे की सत्ता पर काबिज थी शिवसेना

ठाणे के पार्षदों का एकमुश्त एकनाथ शिंदे के गुट में जाना उद्धव सेना के लिए बड़ा खतरा है। दरअसल शिवसेना ठाणे नगर निगम में बीते 25 सालों से शासन कर रही है, लेकिन यहां के सबसे मजबूत स्तंभ रहे एकनाथ शिंदे की ही बगावत ने सारे समीकरणों को धराशायी कर दिया है। उसके बाद पार्षदों का जाना एक और बड़ी चिंता है। इसके साथ ही ठाणे में शिवसेना का वर्चस्व पूरी तरह खत्म होता दिख रहा है। अब तक शिवसेना की ओर से 66 पार्षदों के छोड़ जाने पर कोई आधिकारिक टिप्पणी सामने नहीं आई है। साफ है कि ठाणे में अपना वजूद बनाए रखने के लिए शिवसेना को कड़ी मेहनत करनी होगी और पार्टी को नए सिरे से खड़ा करना होगा।