Wednesday , August 10 2022

महिला योग:महिलाओं से जुड़ी ज्यादातर समस्याएं दूर करते हैं ये आसन योग

नई दिल्ली: पहले पीरियड्स से लेकर मेनोपॉज तक, आप चाहे किसी भी अवस्था में हों, योग का अभ्यास हर एक उम्र में जरूरी है। आप चाहे मोटी हों, पतली हों या सामान्य वजन की, योग हर प्रकार की महिलाओं के लिए फायदेमंद होता है। ये सिर्फ वजन को ही कंट्रोल नहीं करता बल्कि और भी कई शारीरिक समस्याओं को दूर रखता है। योग महज एक व्यायाम नहीं है बल्कि इससे मन, शरीर और आत्मा को लाभ मिलता होता है। आप ज्यादा सकारात्मक, खुश और ऊर्जावान बनती हैं। यहां कुछ योग मुद्राएं दी गई हैं, जो महिलाएं को लगभग हर चरण में लाभ देती हैं।

मार्जरी आसन (कैट पोज)

कैसे करें मार्जरी आसन

  • मैट पर घुटनों के बल बैठ जाएं।
  • दोनों हाथों को फर्श पर आगे की ओर टिकाएं।
  • सांस भरते हुए अपने पेट को फर्श की ओर नीचे धकेलें। अपनी टेलबोन और गर्दन को छत की ओर उठाएं।
  • कुछ सेकेंड इस स्थिति में बने रहें और फिर अपनी रीढ़ को छत की की ओर उठाकर कैट पोज में आ जाएं। अपनी टेलबोन को सिकोड़ें और अपनी ठुड्डी को अपनी छाती पर रखें। कुछ सेकेंड के लिए इस स्थिति में रहें। इस आसन को 10 बार करें।
    मार्जरी आसन के फायदे
  • रीढ़ की हड्डियां मजबूत व लचीली होती है।
  • पीरियड्स के दौरान होने वाले दर्द और ऐंठन से राहत मिलती है।
  • नींद अच्छी आती है।
  • वीरभद्रासन (वॉरियर पोज)

कैसे करें वीरभद्रासन

  • दोनों पैरों को एक मीटर की दूरी पर रख लें और अपने हाथों को सामने की तरफ करके सीधे खड़े हो जाएं।
    अपने दाहिने पैर को दाहिनी ओर मोड़ें और अपने हाथों को अपने कंधे के लेवल तक उठाएं। अब अपने दाहिने घुटने को लंज पोजीशन में मोड़ें। बाएं पैर को सीधा रखें। अपनी क्षमतानुसार इस स्थिति में बने रहें। फिर आरामदायक पोजीशन में आ जाएं।
  • यह प्रक्रिया दूसरी तरफ से भी करें
    वीरभद्रासन के फायदे
  • पेट पर खिंचाव पड़ता है जिससे वहां की चर्बी कम होती है और अंदरूनी अंगों की मालिश होती है।
  • हाथ, कंधे, जांघ और पीठ की मसल्स स्ट्रॉन्ग और एक्टिव होती है।