Monday , August 15 2022

World Heart Day 2020: इन 10 लक्षणों की मदद से पहचानें दिल के दौरे को

लखनऊ: आज के दिन यानि 29 सितंबर को हर साल विश्व हृदय दिवस मतलब वर्ल्ड हार्ट डे मनाया जाता है। इस दिन का उद्देश्य लोगों को दिल से जुड़ी बीमारियों के प्रति जागरुक करना है। हृदयरोग के मरीजों की संख्या दुनियाभर में लगातार बढ़ती जा रही है। डॉक्टरों का मानना है कि कोरोना वायरस महामारी के समय में दिल की बीमारी लोगों को ज्यादा नुकसान पंहुचा रही है, जिसकी वजह से कोविड-19 के डर से दिल के मरीज घर में ही रहने के लिए मजबूर हैं।

लापरवाही का नतीजा जानलेवा हो सकता है

अक्सर लोग दिल की बीमारी के शुरुआती संकेतों को नज़रअंदाज़ कर देते हैं और इस लापरवाही का नतीजा जानलेवा हो सकता है। दिल की बीमारी से होने वाली मौतों के हर छह मामलों में से एक में लोग शुरुआती चेतावनी को नज़र अंदाज़ करने की भूल करते हैं। ये बात कुछ समय पहले ब्रिटेन में हुए एक सर्वे में सामने आई थी।
35 से ज्यादा उम्र के युवाओं में भी खराब लाइफस्टाइल और खाने की आदतों के कारण दिल से जुड़ी बीमारियां बढ़ रही हैं। पिछले 10 साल में दिल की बीमारियों से पीड़ित लोगों की संख्या तेज़ी से बढ़ी है। इनमें से ज़्यादातर लोग 30-50 साल आयु वर्ग के पुरुष और महिलाएं हैं।

मन को स्वस्थ और शांत रखना का उपाय

आज कल की बिजी ज़िंदगी और कोरोना वायरस महामारी की वजह से लोगों के पास अपने शरीर और मन को स्वस्थ और शांत रखना का उपाय और समय नहीं है। यही वजह है कि लोगों में कई तरह की बीमारियां देखने को मिल रही हैं। डॉक्टरों का कहना है कि लॉकडाउन के बाद अब लोगों को कम से कम आधे घंटे एक्सरसाइज़ ज़रूर करना चाहिए, थोड़ा बाहर घूमना चाहिए लेकिन कोविड से बचने के उपाय के साथ। साथ ही नमक, चीनी और ट्रांस फैट वाली चीज़ों से दूर रहना चाहिए। इससे दिल की बीमारी होने का ख़तरा कम होता है।
दिल के दौरे के लक्षण

1. सीने में दर्द- सीने में दबाव, दिल के बीचों बीच कसाव महसूस होना।

2. शरीर के दूसरे हिस्सों में दर्द- दर्द सीने से हाथों (अमूमन बाएं हाथ पर असर पड़ता है, लेकिन दोनों हाथों में दर्द हो सकता है), जबड़े,
3. गर्दन, पीठ और पेट की ओर जाता हुआ महसूस हो।
4. मन अशांत लगे या चक्कर आएं।
5. पसीने से तरबतर होना।

Leave a Reply