Wednesday , September 28 2022

धर्म परिवर्तन करवाकर शादी करने वालों पर होगी सख्त कार्रवाई: CM योगी

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गृह एवं पुलिस विभाग के अधिकारियों को प्रदेश में लव जेहाद की घटनाएं रोकने के लिए कार्ययोजना बनाने के निर्देश दिए हैं. उन्होंने कहा कि पहचान छिपाकर बहलाने-फुसलाने या ब्लैकमेल करके धर्मांतरण कराने की कोशिशों पर सख्त कार्रवाई की जाए. महिलाओं का उत्पीड़न या उनके साथ हिंसा की घटनाओं को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा. इसके लिए कड़ा कानून बनाना पड़ा तो बनाया जाएगा.

शुक्रवार की अफसरों के साथ बैठक में मुख्यमंत्री योगी ने हाल के दिनों में सामने आई महिला उत्पीड़न की घटनाओं पर नाराजगी जताई है. इस दौरान मेरठ, कानपुर और लखीमपुर खीरी में धोखे से लड़कियों को प्रेमजाल में फंसाने की घटनाओं की भी समीक्षा की गई है. इसमें लखीमपुर खीरी व मेरठ में लड़कियों की हत्या भी कर दी गई थी. मुख्यमंत्री योगी ने कहा कि ऐसी घटनाएं रोकने के लिए व्यापक कार्ययोजना बनाई जाए. ऐसी सूचनाओं को गंभीरता से लेते हुए दोषियों के विरुद्ध सख्त से सख्त कार्रवाई की जाए.

लड़कियों का धर्म बदलकर शादी करने वाले मामलों में नए सिरे से होगी अब जांच

आपको बता दें कि पिछले साल, उत्तर प्रदेश राज्य विधि आयोग ने आदित्यनाथ को एक रिपोर्ट सौंपी थी, जिसमें जबरन धार्मिक रूपांतरणों की जांच करने के लिए एक नया कानून सुझाया गया था. विधि आयोग की सचिव सपना त्रिपाठी ने कहा था, “एक मसौदा कानून, उत्तर प्रदेश स्वतंत्रता विधेयक, 2019 के साथ रिपोर्ट प्रस्तुत की गई थी.”

गंभीर मामले पर कुछ अन्य राज्यों की तरह एक नए कानून की जरूरत

रिपोर्ट में कहा गया है कि आयोग का विचार है कि मौजूदा कानूनी प्रावधान धार्मिक रूपांतरण की जांच करने के लिए पर्याप्त नहीं हैं और इस गंभीर मामले पर कुछ अन्य राज्यों की तरह एक नए कानून की जरूरत है.268-पृष्ठ की रिपोर्ट में जबरन धर्मांतरण, धर्म के अधिकार पर अंतर्राष्ट्रीय करार, पड़ोसी देशों और भारत में धर्मांतरण विरोधी कानूनों के बारे में समाचार पत्रों की कतरनें शामिल थीं.

इसमें कहा गया है कि मध्य प्रदेश, ओडिशा, अरुणाचल प्रदेश, तमिलनाडु, गुजरात, राजस्थान, छत्तीसगढ़, झारखंड, हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड जैसे राज्यों ने बल, धोखाधड़ी, विवाह या खरीद द्वारा धर्मांतरण पर प्रतिबंध लगाने के लिए विशेष कानून बनाए थे.

Leave a Reply